भगवत गीता का ज्ञान हिंदी में, भगवत गीता सार, Bhagwat Geeta ka gyan, Bhagavad Gita quotes in hindi, Bhagwat Geeta quotes in hindi, bhagwat geeta saar



Motivational thoughts in hindi पर आज हम पढ़ेंगे श्रीमद भगवत गीता का ज्ञान हिंदी में, भगवत गीता सार हिंदी में, भगवत गीता के अनमोल वचन, भगवत गीता के अनमोल विचार, Shrimad Bhagwat Geeta ka gyan hindi mein, Bhagavad Gita quotes in hindi, Bhagwat Geeta quotes in hindi, Bhagwat Geeta ka saar in hindi, Bhagwat Geeta ke updesh.

Shrimad Bhagwat Geeta ka gyan hindi, भगवत गीता quotes in hindi -:



भगवत गीता का ज्ञान हिंदी में, भगवत गीता सार, Bhagwat Geeta ka gyan, Bhagavad Gita quotes in hindi, Bhagwat Geeta quotes in hindi, bhagwat geeta saar
श्रीमद भगवत गीता का ज्ञान हिंदी में, भगवत गीता सार हिंदी में, भगवत गीता के अनमोल वचन, भगवत गीता के अनमोल विचार, Shrimad Bhagwat Geeta ka gyan hindi mein, Bhagavad Gita quotes in hindi, Bhagwat Geeta quotes in hindi, Bhagwat Geeta ka saar in hindi, Bhagwat Geeta ke updesh



~ अपकीर्ति मृत्यु से भी बुरी है।

~ मैं भूतकाल, वर्तमान और भविष्य काल के सभी जीवों को जानता हूं, लेकिन वास्तविकता में मुझे कोई नही जानता है।

~ जो हुआ वह अच्छा हुआ, जो हो रहा है वह अच्छा हो रहा है, जो होगा वो भी अच्छा ही होगा।

~ तुम क्यों व्यर्थ में चिंता करते हो ? तुम क्यों भयभीत होते हो ? कौन तुम्हें मार सकता है ? आत्मा न कभी जन्म लेती है और न ही इसे कोई मार सकता है। यह ही जीवन का अंतिम सत्य है।

~ जिस प्रकार अग्नि स्वर्ण को परखती है, उसी प्रकार संकट वीर पुरुषों को।


भगवत गीता का ज्ञान हिंदी में, भगवत गीता सार, Bhagwat Geeta ka gyan, Bhagavad Gita quotes in hindi, Bhagwat Geeta quotes in hindi, bhagwat geeta saar
श्रीमद भगवत गीता का ज्ञान हिंदी में, भगवत गीता सार हिंदी में, भगवत गीता के अनमोल वचन, भगवत गीता के अनमोल विचार, Shrimad Bhagwat Geeta ka gyan hindi mein, Bhagavad Gita quotes in hindi, Bhagwat Geeta quotes in hindi, Bhagwat Geeta ka saar in hindi, Bhagwat Geeta ke updesh



~ मैं सभी प्राणियों को एक समान रूप से देखता हूं, मेरे लिए ना कोई कम प्रिय है ना ही ज्यादा। लेकिन जो मनुष्य मेरी प्रेमपूर्वक आराधना करते हैं वो मेरे भीतर रहते हैं और मैं उनके जीवन में आता हूं।

~ जो अपने हिस्से का काम किये बिना ही भोजन पाते हैं, वे चोर हैं।

~ मनुष्य को परिणाम की चिंता किए बिना, लोभ- लालच बिना एवं निस्वार्थ और निष्पक्ष होकर अपने कर्तव्यों का पालन करना चाहिए।

~ फल की अभिलाषा छोड़ कर कर्म करने वाला पुरुष ही अपने जीवन को सफल बनाता है।

~ जो व्यवहार आपको दूसरों से पसंद ना हो, ऐसा व्यवहार आप दूसरों के साथ भी ना करें।

भगवत गीता का ज्ञान हिंदी में, भगवत गीता सार, Bhagwat Geeta ka gyan, Bhagavad Gita quotes in hindi, Bhagwat Geeta quotes in hindi, bhagwat geeta saar
श्रीमद भगवत गीता का ज्ञान हिंदी में, भगवत गीता सार हिंदी में, भगवत गीता के अनमोल वचन, भगवत गीता के अनमोल विचार, Shrimad Bhagwat Geeta ka gyan hindi mein, Bhagavad Gita quotes in hindi, Bhagwat Geeta quotes in hindi, Bhagwat Geeta ka saar in hindi, Bhagwat Geeta ke updesh



~ क्रोध से भ्रम पैदा होता है, भ्रम से बुद्धि व्यग्र होती है, जब बुद्धि व्यग्र होती है तब तर्क नष्ट हो जाता है। जब तर्क नष्ट होता है तब व्यक्ति का पतन हो जाता है।

~ केवल व्यक्ति का मन ही किसी का मित्र और शत्रु होता है।

~ जीवन न तो भविष्य में है, न अतीत में है, जीवन तो बस इस क्षण में है।

~ मनुष्य को जीवन की चुनौतियों से भागना नहीं चाहिए और न ही भाग्य और ईश्वर की इच्छा जैसे बहानों का प्रयोग करना चाहिए।

~ कर्म न करने से, कर्म करना श्रेष्ठ है।

भगवत गीता का ज्ञान हिंदी में, भगवत गीता सार, Bhagwat Geeta ka gyan, Bhagavad Gita quotes in hindi, Bhagwat Geeta quotes in hindi, bhagwat geeta saar
श्रीमद भगवत गीता का ज्ञान हिंदी में, भगवत गीता सार हिंदी में, भगवत गीता के अनमोल वचन, भगवत गीता के अनमोल विचार, Shrimad Bhagwat Geeta ka gyan hindi mein, Bhagavad Gita quotes in hindi, Bhagwat Geeta quotes in hindi, Bhagwat Geeta ka saar in hindi, Bhagwat Geeta ke updesh



~ मनुष्य को अपने कर्मों के संभावित परिणामों से प्राप्त होने वाली विजय या पराजय, लाभ या हानि, प्रसन्नता या दुःख इत्यादि के बारे में सोच कर चिंता से ग्रसित नहीं होना चाहिए।

~ सफलता जिस ताले में बंद रहती है वह दो चाबियों से खुलती है। एक कठिन परिश्रम और दूसरा दृढ़ संकल्प ।

~ मानव कल्याण ही भगवत गीता का प्रमुख उद्देश्य है। इसलिए मनुष्य को अपने कर्तव्यों का पालन करते समय मानव कल्याण को प्राथमिकता देना चाहिए।

~ मनुष्य का मन इन्द्रियों के चक्रव्यूह के कारण भ्रमित रहता है। जो वासना, लालच, आलस्य जैसी बुरी आदतों से ग्रसित हो जाता है। इसलिए मनुष्य का अपने मन एवं आत्मा पर पूर्ण नियंत्रण होना चाहिए।

~ परमात्मा को प्राप्ति के इच्छुक ब्रम्हचर्य का पालन करते है।

~ मनुष्य को अपने धर्म के अनुसार कर्म करना चाहिए।जैसे – विद्यार्थी का धर्म विद्या प्राप्त करना, सैनिक का धर्म देश की रक्षा करना आदि। जिस मानव का जो कर्तव्य है उसे वह कर्तव्य पूर्ण करना चाहिए।

~ वह व्यक्ति जो अपनी मृत्यु के समय मुझे याद करते हुए अपना शरीर त्यागता है, वह मेरे धाम को प्राप्त होता है और इसमें कोई शंशय नहीं है।

~ समय से पहले और भाग्य से अधिक कभी किसी को कुछ नही मिलता है।

~ श्रेष्ठ पुरुष को सदैव अपने पद और गरिमा के अनुरूप कार्य करने चाहिए। क्योंकि श्रेष्ठ पुरुष जैसा व्यवहार करेंगे, तो इन्हीं आदर्शों के अनुरूप सामान्य पुरुष भी वैसा ही व्यवहार करेंगे।

~ जो मनुष्य जिस प्रकार से ईश्वर का स्मरण करता है उसी के अनुसार ईश्वर उसे फल देते हैं। कंस ने श्रीकृष्ण को सदैव मृत्यु के लिए स्मरण किया तो श्रीकृष्ण ने भी कंस को मृत्यु प्रदान की। अतः परमात्मा को उसी रूप में स्मरण करना चाहिए जिस रूप में मानव उन्हें पाना चाहता है।

~ एक ज्ञानवान व्यक्ति कभी भी कामुक सुख में आनंद नहीं लेता।

~ सदैव संदेह करने वाले व्यक्ति के लिए प्रसन्नता ना इस लोक में है ना ही कहीं और।

~ आसक्ति से कामना का जन्म होता है।

~ जो मन को नियंत्रित नहीं करते उनके लिए वह शत्रु के समान कार्य करता है।

~ फल की अभिलाषा छोड़कर कर्म करने वाला पुरुष ही अपने जीवन को सफल बनाता है।

~  जन्म लेने वाले के लिए मृत्यु उतनी ही निश्चित है, जितना कि मृत होने वाले के लिए जन्म लेना। इसलिए जो अपरिहार्य है उस पर शोक मत करो।

~ वह जो सभी इच्छाएं त्याग देता है और मैं और मेरा की लालसा और भावना से मुक्त हो जाता है उसे शांति प्राप्त होती है।

~ मन बड़ा चंचल है, मनुष्य को मथ डालता है, अतः मन बहुत बलवान होता है।

~ तुम्हारा क्या गया जो तुम रोते हो, तुम क्या लाए थे जो तुमने खो दिया, तुमने क्या पैदा किया था जो नष्ट हो गया, तुमने जो लिया यहीं से लिया, जो दिया यहीं पर दिया, जो आज तुम्हारा है, कल किसी और का होगा। क्योंकि परिवर्तन ही संसार का नियम है।

~ धरती पर जिस प्रकार मौसम में बदलाव आता है, उसी प्रकार जीवन में भी सुख-दुख आता जाता रहता है।

~ ईश्वर सब प्राणियों के ह्रदय में वास करता है, और अपनी माया के बल से उन्हें चाक पर चढ़े हुये घड़े की भांति घुमाता है।

~ इतिहास कहता है कि कल सुख था, विज्ञान कहता है कि कल सुख होगा, लेकिन धर्म कहता है कि, अगर मन सच्चा और दिल अच्छा हो तो हर रोज सुख होगा।

~ जो होने वाला है वो होकर ही रहता है और जो नहीं होने वाला वह कभी नहीं होता, ऐसा निश्चय जिनकी बुद्धि में होता है, उन्हें चिंता कभी नहीं सताती है।

~ कोई भी व्यक्ति जो चाहे बन सकता है, यदि वह व्यक्ति एक विश्वास के साथ इच्छित वस्तु पर लगातार चिंतन करे।

~ सर्वत्र समभाव रखने वाला योगी अपने को सब भूतों में, और सब भूतों को अपने में देखता है।

~ अपने आपको ईश्वर के प्रति समर्पित कर दो, यही सबसे बड़ा सहारा है। जो कोई भी इस सहारे को पहचान गया है वह डर, चिंता और दुखों से आजाद रहता है।

~ अच्छे कर्म करने के बावजूद भी लोग केवल आपकी बुराइयां ही याद रखेंगे, इसलिए लोग क्या कहते हैं इस पर ध्यान मत दो, तुम अपना कर्म करते रहो।

~ मन बहुत ही चंचल होता है और इसे नियंत्रित करना कठिन है। परन्तु अभ्यास से इसे वश में किया जा सकता है।

~ तुम क्यों व्यर्थ में चिंता करते हो ? तुम क्यों भयभीत होते हो ? कौन तुम्हे मार सकता है ? आत्मा न कभी जन्म लेती है और न ही इसे कोई मार सकता है, ये ही जीवन का अंतिम सत्य है।

~ मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है, जैसा वह विश्वास करता है, वैसा वह बन जाता है।

~ नरक के तीन द्वार होते हैं। - वासना, क्रोध और लालच।

~ जब जब इस धरती पर पाप, अहंकार और अधर्म बढ़ेगा। तब तब उसका विनाश कर पुन: धर्म की स्थापना करने हेतु, मैं अवश्य अवतार लेता रहूंगा।

~ न तो यह शरीर तुम्हारा है और न ही तुम इस शरीर के मालिक हो। यह शरीर 5 तत्वों से बना है – आग, जल, वायु, पृथ्वी और आकाश। एक दिन यह शरीर इन्हीं 5 तत्वों में विलीन हो जाएगा।


Thank you for reading श्रीमद भगवत गीता का ज्ञान हिंदी में, भगवत गीता सार हिंदी में, भगवत गीता के अनमोल वचन, भगवत गीता के अनमोल विचार, Shrimad Bhagwat Geeta ka gyan hindi mein, Bhagavad Gita quotes in hindi, Bhagwat Geeta quotes in hindi, Bhagwat Geeta ka saar in hindi, Bhagwat Geeta ke updesh.

अन्य लेख -:


Please do subscribe - Youtube Channel

Post a Comment

Previous Post Next Post